surya grahan 21 June 2020, सूर्य ग्रहण 2020, सूर्य ग्रहण के उपाय, लाल किताब में सूर्य ग्रहण के उपाय-jyotirvidh shyama gurudev

क्या होता है सूर्य ग्रहण : लाल किताब के अनुसार सूर्य का राहु के साथ किसी भी प्रकार से संबंध है तो इसे सूर्य ग्रहण माना जाएगा। यदि लग्न में राहु बैठा है तो सूर्य कहीं भी हो उसे ग्रहण होगा। लाल किताब के अनुसार शुक्र और बुद्ध एक ही जगह हैं, तो वे सूर्य हैं और उनके साथ राहु है तो सूर्य ग्रहण होगा। लाल किताब के अनुसार जब किसी कुण्डली में शुक्र, बुध या राहु इकट्ठे दूसरे, पांचवें, नौवें अथवा बारहवें भाव में हों तो जातक पितृ दोष से पीड़ित माना जाता है। मतलब यह कि सूर्य ग्रहण होगा। सूर्य के साथ राहु-केतु के आ जाने पर ग्रहण माना जाएगा।
India Astrology Foundation

Leave a Reply