Love Marriage or Arranged marriage-India Astrology Foundation

शादी जीवन का सबसे अहम फैसला होता है जिसके बारे में हमारे मन में ढ़ेरो ख्याल आते हैं .. जैसे कि हमारा होने वाला जीवनसाथी कैसा होगा.. उससे हमारी बनेगी कि नही और इसके साथ शादी को लेकर सबसे बड़ी जिज्ञासा ये बनी रहती है कि हमारी शादी लव मैरिज होगी या अरेंज । क्योंकि हर कई चाहता है कि उसका जीवनसाथी उसके पंसद का ही हो और इस ख्वाहिश के साथ अक्सर लोगों के मन लव मैरिज के सपने बुनते हैं पर ये भी आशंका बनती है कि पता नही

लव मैरिज होगी या अरेंज

अगर आपके मन में भी अपनी शादी को लेकर ऐसी ही जिज्ञासा है तो आज हम आपकी इस जिज्ञासा को शांत करने का उपाय लेकर आए हैं। 

अनेक नवयुवक-नवयुवतियां तथा विवाह योग्य बच्चों के माता पिता जानना चाहते हैं कि प्रेम विवाह होगा या नहीं, कहीं हमारा विवाह असफल तो नहीं होगा या तीसरे व्यक्ति के कारण जीवन में संघर्ष तो शुरू नहीं हो जाएगा।
जब तक 2 लोगों के मंगल व शुक्र में आकर्षण नहीं होगा, तब तक उनमें प्रेम नहीं होगा। अगर किसी एक का ग्रह दूसरे के ग्रह को देखता है लेकिन दूसरे का ग्रह पहले को नहीं देखता है तो प्रेम एकतरफा ही होगा।
जन्म कुंडली में विवाह कारक ग्रह पंचम के साथ संबंध बनाता हो अथवा 5 का 2, 7, 11 से संबंध हो तो विवाह होता है। प्रेम विवाह कारक ग्रह 1, 4, 6, 8, 10, 12 से जुड़ा हो तो प्रेम विवाह नहीं होता है अथवा विवाह कारक एवं अकारक दोनों से संबंध हो तो विवाह के बाद दूसरा विवाह होता है। ऐसा प्रेम विवाह नहीं चलता है।
सप्तम का सब लॉर्ड पंचम का प्रबल कार्येश हो तो प्रेम विवाह अवश्य होता है। प्रेम विवाह कारक का संबंध यदि 6, 8, 12 से बनता है तो ऐसे विवाह से परिजन की हानि के योग बनते हैं।
लग्नेश का पंचम भाव से संबंध हो और जन्मपत्रिका में पंचमेश-सप्तमेश का किसी भी रूप में संबंध हो। शुक्र, मंगल की युति, शुक्र की राशि में स्थिति और लग्न त्रिकोण का संबंध प्रेम संबंधों का सूचक है। पंचम या सप्तम भाव में शुक्र सप्तमेश या पंचमेश के साथ हो।
. किसी की जन्मपत्रिका में लग्न, पंचम, सप्तम भाव व इनके स्वामियों और शुक्र तथा चन्द्रमा जातक के वैवाहिक जीवन व प्रेम संबंधों को समान रूप से प्रभावित करते हैं। लग्न या लग्नेश का सप्तम और सप्तमेश का पंचम भाव व पंचमेश से किसी भी रूप में संबंध प्रेम संबंध की सूचना देता है। यह संबंध सफल होगा अथवा नही, इसकी सूचना ग्रह योगों की शुभ-अशुभ स्थिति देती है।
. यदि सप्तमेश लग्नेश से कमजोर हो अथवा यदि सप्तमेश अस्त हो अथवा मित्र राशि में हो या नवांश में नीच राशि हो तो जातक का विवाह अपने से निम्न कुल में होता है। इसके विपरीत लग्नेश से सप्तमेश बली हो, शुभ नवांश में ही तो जीवनसाथी उच्च कुल का होता है।
. पंचमेश सप्तम भाव में हो अथवा लग्नेश और पंचमेश सप्तम भाव के स्वामी के साथ लग्न में स्थित हो। सप्तमेश पंचम भाव में हो और लग्न से संबंध बना रहा हो। पंचमेश सप्तम में हो और सप्तमेश पंचम में हो। सप्तमेश लग्न में और लग्नेश सप्तम में हो, साथ ही पंचम भाव के स्वामी से दृष्टि संबंध हो तो भी प्रेम संबंध का योग बनता है।
. पंचम में मंगल भी प्रेम विवाह करवाता है। यदि राहु पंचम या सप्तम में हो तो प्रेम विवाह की संभावना होती है। सप्तम भाव में यदि मेष राशि में मंगल हो तो प्रेम विवाह होता है। सप्तमेश और पंचमेश एक-दूसरे के नक्षत्र पर हों तो भी प्रेम विवाह का योग बनता है।
. पंचमेश तथा सप्तमेश कहीं भी, किसी भी तरह से द्वादशेश से संबंध बनाए लग्नेश या सप्तमेश का आपस में स्थान परिवर्तन अथवा आपस में युक्त होना अथवा दृष्टि संबंध।
. सप्तमेश स्वग्रही हो, एकादश स्थान पापग्रहों के प्रभाव में बिलकुल न हो, शुक्र लग्न में लग्नेश के साथ, मंगल सप्तम भाव में हो, सप्तमेश के साथ, चन्द्रमा लग्न में लग्नेश के साथ हो, तो भी प्रेम विवाह का योग बनता है।
जब किसी लड़का और लड़की के बीच प्रेम होता है तो वे साथ साथ जीवन बीताने की ख्वाहिश रखते हैं और विवाह करना चाहते हैं। कोई प्रेमी अपनी मंजिल पाने में सफल होता है यानी उनकी शादी उसी से होती है जिसे वे चाहते हैं और कुछ इसमे नाकामयाब होते हैं। ज्योतिषशास्त्री इसके लिए ग्रह योग को जिम्मेवार मानते हैं। देखते हैं ग्रह योग कुण्डली में क्या कहते हैं।
ज्योतिषशास्त्र में “शुक्र ग्रह” को प्रेम का कारक माना गया है । कुण्डली में लग्न, पंचम, सप्तम तथा एकादश भावों से शुक्र का सम्बन्ध होने पर व्यक्ति में प्रेमी स्वभाव का होता है। प्रेम होना अलग बात है और प्रेम का विवाह में परिणत होना अलग बात है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार पंचम भाव प्रेम का भाव होता है और सप्तम भाव विवाह का। पंचम भाव का सम्बन्ध जब सप्तम भाव से होता है तब दो प्रेमी वैवाहिक सूत्र में बंधते हैं। नवम भाव से पंचम का शुभ सम्बन्ध होने पर भी दो प्रेमी पति पत्नी बनकर दाम्पत्य जीवन का सुख प्राप्त करते हैं।
ऐसा नहीं है कि केवल इन्हीं स्थितियो मे प्रेम विवाह हो सकता है। अगर आपकी कुण्डली में यह स्थिति नहीं बन रही है तो कोई बात नहीं है हो सकता है कि किसी अन्य स्थिति के होने से आपका प्रेम सफल हो और आप अपने प्रेमी को अपने जीवनसाथी के रूप में प्राप्त करें। पंचम भाव का स्वामी पंचमेश शुक्र अगर सप्तम भाव में स्थित है तब भी प्रेम विवाह की प्रबल संभावना बनती है । शुक्र अगर अपने घर में मौजूद हो तब भी प्रेम विवाह का योग बनता है।
शुक्र अगर लग्न स्थान में स्थित है और चन्द्र कुण्डली में शुक्र पंचम भाव में स्थित है तब भी प्रेम विवाह संभव होता है। नवमांश कुण्डली जन्म कुण्डली का शरीर माना जाता है अगर कुण्डली में प्रेम विवाह योग नहीं है और नवमांश कुण्डली में सप्तमेश और नवमेश की युति होती है तो प्रेम विवाह की संभावना 100 प्रतिशत बनती है। शुक्र ग्रह लग्न में मौजूद हो और साथ में लग्नेश हो तो प्रेम विवाह निश्चित समझना चाहिए । शनि और केतु पाप ग्रह कहे जाते हैं लेकिन सप्तम भाव में इनकी युति प्रेमियों के लिए शुभ संकेत होता है। राहु अगर लग्न में स्थित है तो
नवमांश कुण्डली या जन्म कुण्डली में से किसी में भी सप्तमेश तथा पंचमेश का किसी प्रकार दृष्टि या युति सम्बन्ध होने पर प्रेम विवाह होता है। लग्न भाव में लग्नेश हो साथ में चन्द्रमा की युति हो अथवा सप्तम भाव में सप्तमेश के साथ चन्द्रमा की युति हो तब भी प्रेम विवाह का योग बनता है। सप्तम भाव का स्वामी अगर अपने घर में है तब स्वगृही सप्तमेश प्रेम विवाह करवाता है। एकादश भाव पापी ग्रहों के प्रभाव में होता है तब प्रेमियों का मिलन नहीं होता है और पापी ग्रहों के अशुभ प्रभाव से मुक्त है तो व्यक्ति अपने प्रेमी के साथ सात फेरे लेता है। प्रेम विवाह के लिए सप्तमेश व एकादशेश में परिवर्तन योग के साथ मंगल नवम या त्रिकोण में हो या फिर द्वादशेश तथा पंचमेश के मध्य राशि परिवर्तन हो तब भी शुभ और अनुकूल परिणाम मिलता है।
. जिस जातक की प्रभावित रेखा चन्द्र क्षेत्र पर होकर भाग्य रेखा से मिले एवं शुक्र क्षेत्र पर आड़ी रेखाएं होकर भी वे जीवनरेखा से न मिले, ऐसे जातक का विवाह न होकर पर-स्त्री से प्रेम होता है एवं स्त्री के कारण ही यह जातक संकट में पड़ता है। कभी-कभी ऐसे जातकों को स्त्री के कारण जेल यात्रा भी करना पड़ती है।
. जिस जातक के दोनों हाथों पर हृदय रेखा में द्वीप चिन्ह हो और शुक्र रेखा स्वास्थ्य रेखा को काटकर ऊपर जाए, निश्चय ही ऐसे व्यक्ति का अवैध प्रेम संबंध होता है।
. जिस जातक के हाथ की हृदय रेखा या बुध क्षेत्र पर जाए, उसका किसी निकट संबंधी या रिश्तेदार स्त्री से प्रेम संबंध होता है।
. यदि अंगुलियों के तीसरे पर्व पर यव चिन्ह हो व द्वितीय पर्व पर भी यव चिन्ह हो, वह विद्याविहीन, विषयासक्त, भोगी, दुराचारी होकर जल में डूब मरता है।
कल पढे
—-” ऐसे सपने दिखे, तो होगा प्रेम विवाह”
—- “प्रेम विवाह कब और कहाँ होगा”
—-“प्रेम विवाह का सामाजिक और वैवाहिक जिवन मे प्रभाव”
Get Your Marriage Horoscope and other reports, enter your birth details in the form given below and then submit.
When will I get married? Will it be an arranged marriage or a love marriage? How will my married life be? This Personalised Marriage Horoscope Report gives answer to your questions.
Your Marriage Horoscope Report focuses on love marriage, promised marriage, delayed marriage and denied marriage. It also pays attention to the planetary positions that decide the time of marriage and the factors that lead to divorce and separation besides analyzing what kind of planetary positions cause unhappy married life. You can find out more about your marriage and married life by typing in the details required below.
Full Name:_______________
Date of Birth:_____________
Time of Birth :_____________
Place of Birth:_____________

Gender      :_____________
Parents Name:____________

Click here to subnit
SUBMIT to 7620314972

क्या आप भी जानना चाहते है के आपके प्रेम विवाह मे देरी और विघ्न क्यों आ रहे है?

क्या आपको भी प्रेम विवाह के संबंध मे confused है ?

या जानना चाहते है अपने राशि नक्षत्र अनुसार कब और कहाँ प्रेम विवाह के बंधन मे बंधेंगे ?

क्या आप भी जानना चाहते है अपनी कुंडली मे प्रेम विवाह योग की स्थिति शुभ फल दायक है या अशुभ ?

या वैवाहिक जिवन से सम्बंधित आपका कोई भी प्रश्न है?

क्या आपके भी कन्या/पुत्र की कुंडली मे प्रेम विवाह के योग है?

तो देर ना करें, आज ही ज्योतिर्विद श्यामा गुरुदेव से सम्पर्क कर Mail अथवा Whatsapp द्वारा अपना विस्तृत भविष्यफल एवं समस्या समाधान हेतु शास्त्र सम्मत ज्योतिष उपाय प्राप्त करें।
 
Jyotirvidh Shyama Gurudev
Email-indiaastrologyfoundation@gmail.com

Whatsapp-7620314972

अपनी व्यक्तिगत कुंडली समस्या के निश्चित समाधान एवं मार्गदर्शन हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिर्विद श्यामा गुरुदेव से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |

Whatsapp OR Call us at 7620314972

Or click the link here

https://chat.whatsapp.com/HMuEr5yWpOQL3pj5e3LCmr

 

CLICK THE IMAGE BELOW TO GET YOUR MARRIAGE REPORT NOW

Love Marriage or Arranged marriage-India Astrology Foundation

https://p-y.tm/Rl-PBqO

Leave a Reply